गुरुवार, 5 जून 2008

नहीं रही सुबाना

सुबाना पर कविता लिखने के काफी दिनों तक मैं सोचता रहा कि आखिर उस बच्ची का क्या हुआ। कहीं से कोई खबर नहीं मिल रही थी। आखिरकार जयपुर में मैंने एक दोस्त को फोन किया तो जो खबरें आई वो विचलित करने वाली थी। जयपुर विस्फोट के महज चार दिन बाद ही सुबाना भी अपनी मां के पास चली गई। जयपुर विस्फोट में सुबाना की मौसी और मां की मौत हो गई थी। सुबाना को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन काल पर किसी का वश नहीं होता। वो मासूम बच्ची जिंदगी की जंग हार गई। अब नहीं रही सुबाना। शर्म करो दहशतगर्दों, फूल सी बच्ची ने तुम्हारा क्या बिगाड़ा था जो उसकी निश्छल जिंदगी बर्बाद कर दी। पहले तो बच्ची से उसकी ममता का आंचल छीन लिया और उसे इतना गहरा जख्म दिया कि वो भी नहीं रही। शर्म करो आतंकवाद........