शनिवार, 19 फ़रवरी 2011

न्यूज रूम में छल !


मॉर्निंग शिफ्ट के लोग घर जाने की तैयारी में थे। 4 बजे की बुलेटिन शुरू होने में कुछ मिनट ही बचे थे। तभी Executive Producer राकेश त्रिपाठी और राजेन्द्र प्रसाद मिश्रा जी(आरपीएम) मीटिंग से सीधे न्यूज रूम में आए। उनके साथ बाबा रामदेव भी थे। दोनों मिलकर उन्हें न्यूजरूम से रूबरू करवा रहे थे। एकाएक बाबा रामदेव को देख सभी अचंभित थे। आम तौर पर किसी के आने से पहले उनकी चर्चा होती है लेकिन इस बार ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। राकेश जी न्यूज रूम के लोगों से बाबा रामदेव को मिलवा रहे थे। राकेश जी ने जोश में आवाज लगाई अमर जल्दी आओ.... बाबा रामदेव को देख अमर जी दौड़ पड़े... बाबा के सामने हाथ जोड़े भाव विभोर मुद्रा में खड़े थे.. तभी आरपीएम जी बोल पड़े, बाबा ये अमर आनंद हैं लाइव इंडिया के सबसे होनहार प्रोड्यूसर। अमर जी इतने भाव विभोर थे कि उनके मुंह में शब्द जैसे अटक गए थे... एकाएक उनको ख्याल आया और बोल पड़े राकेश भैया बाबा जी के साथ एक फोटो प्लीज... फिर क्या था फोटो खींचने का सिलसिला शुरू हो गया। असिस्टेंट प्रोड्यूसर शंभू जो आम तौर पर साधु संतों को गरियाते नजर आते हैं, बाबा रामदेव के साथ फोटो खिंचवा रहे थे। कुछ देर में बाबा रामदेव न्यूज रूम से चले गए लेकिन चर्चा सिर्फ उन्हीं की हो रही थी। अमर जी जिस सीट पर बैठते हैं उसके ठीक पीछे एसी है, लेकिन बाबा रामदेव से मिलने के बाद वो पसीने से तरबतर थे। अमर जी बोले जा रहे थे, राकेश भैया का आभारी हूं उन्होंने बाबा रामदेव के सामने मेरा नाम लेकर पुकारा और मिलवाया। अमर जी इतने आह्लादित थे कि बुलेटिन की चिंता भी नहीं रही। आगे बोले, इसी तरह से मैं एक बार राष्ट्रपति से भी मिला था। मैंने पूछा, बाबा को एकाएक देखकर कैसा लगा। अमर जी बोल पड़े-- एकदम से कन्फूजिया गया, कुछ समझ में नहीं आया। दूसरी तरफ शंभू मुझसे मोबाइल से फोटो भेजने को कह रहा था। साथ ही अपनी सफाई भी दे रहा था कि वो सिर्फ बाबा रामदेव की ही इज्जत करते हैं। शंभू ने कहा कि वो ये फोटो अपने गांव में सबको दिखाएगा। वहीं न्यूज रूम में कुछ लोग बाबा रामदेव से मिलकर खुश हो रहे लोगों को देख मंद मंद मुस्करा रहे थे। ये मुस्कुराहट रहस्यमयी थी। कुछ देर में ये रहस्यमयी मुस्कुराहत ठहाकों में बदल गई। ऐसे लगा जैसे बम फूटा- किसी ने कहा ये तो नकली बाबा रामदेव थे। अमर जी जैसे नींद से जागे, उनके चेहरे का पसीना सूख गया। शंभू बोला धत तेरी के बेकूफ बना दिया। नकली बाबा से मिलने वाले बाकी लोगों का भी कुछ ऐसा ही हाल था।

कोई टिप्पणी नहीं: